भारत के 158 सैनिको को चीनी सेना के द्वारा मार गिराये जाने की सच्‍चाई  

नई दिल्‍ली। भारत-चीन सीमा विवाद अब बढ़ता जा रहा है। चीन हर तरह से भारत के ऊपर दबाव बनाने की कोशिश कर रहा है, लेकिन वह अपने मंसूबों में कामयाब नहीं हो रहा है। अपने मंसूबों में कामयाब ना होने पर चीन अब नीच हरकतों पर उतर आया है। इसी के तहत वह अलग-अलग हथकंडे अपना रहा है।

यह भी पढें:- हो गया फाइनल, अब सोनिया गांधी को छोडना पडे़गा देश

कभी वह 1962 के युद्ध की बात कहता है तो कभी वह समुद्री शक्ति का प्रदर्शन कर भारत को डराना चाहता है, लेकिन भारत के सैनिकों ने भी सीमा पर मोर्चा संभाल रखा है। मात्र 120 मीटर की दूरी पर भारत और चीन की सेना आमने-सामने हैं। चीनी मीडिया शुरू से ही भारत के खिलाफ भ्रामक खबरें फैला रहा है। पर वह अपने मंसूबों में कामयाब नहीं हो रहा है। एक दिन पूर्व चीनी मीडिया ने भारत के खिलाफ झूठी खबर फैलाई कि चीन ने भारत के 158 सैनिकों को मार गिराया है।

यह भी पढें:- श्रद्धांजली देने पहुंचे स्‍वामी ओम को महिलाओं ने चेले के साथ चप्‍पलों से पीटा, देखें विडियो

और तो और पाकिस्तान के भी चैनलों ने इस खबर को बढ़-चढ़कर दिखाया, लेकिन भारत ने इन खबरों को झूठ करार दिया। भारत ने सीधे तौर पर चीन की इन खबरों को नकार दिया जिनमें चीन ने दावा किया था कि सिक्किम सीमा पर 158 भारतीय सैनिकों को राकेट से हमला कर मार गिराया है। चीन की यह बौखलाहट भरी खबर तिब्बत में युद्धाभ्यास के एक दिन बाद आई है। इस युद्धाभ्यास में दुश्मन के टैंकों को लक्ष्य बनाकर उन को नष्ट करना आदि शामिल था। इस युद्धाभ्यास का एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर खूब तेजी से वायरल हो रहा है। भारत के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले ने संवाददाताओं को बताया कि चीन बौखलाहट में उल्टी-सीधी अफवाहें फैला रहा है जिनका कोई आधार नहीं है।

यह भी पढें:- VIRAL VIDEO : दुनिया के सबसे जहरीले सांप को बिल्‍ली ने बनाया अपना निवाला

सिक्किम भूटान सीमा पर डोकलाम क्षेत्र में भारत और चीन की सेनाएं पिछले एक महीने से आमने सामने हैं। चीन की मंशा थी कि शायद भारत पीछे हट जाएगा लेकिन भारत ने उसी आक्रामकता के साथ चीन के सामने सीना ठोकर अपने सैनिकों को उतार दिया है। रक्षा विशेषज्ञों का कहना है कि भारत ने चीन के खिलाफ अपनी सेनाएं उतार कर अपनी मजबूत इच्छाशक्ति और आक्रामक रवैया का परिचय दिया है। भारत के इस कदम से यह स्पष्ट हो चुका है कि अब भारत एक कदम भी पीछे हटने वाला नहीं है।

weebsly